आतंक का आका मसूद अजहर जिंदा या मुर्दा? कहीं ये PAK की नई चाल तो नहीं

पुलवामा में 40 जवानों की शहादत का गुनाहगार जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मौलाना मसूद अजहर क्या सचमुच मर गया है या सिर्फ ये एक अफवाह ही है. ये सवाल रविवार शाम से ही सोशल मीडिया पर घूम रहा है. हालांकि, इस बात की पुष्टि नहीं हुई है और ना ही भारत की सुरक्षा एजेंसियां इसे मान रही हैं. लेकिन एक और पाकिस्तान के इस तरह के पैंतरे जारी हैं तो वही भारत भी हर तरह से मुस्तैद है.

खबर है कि दोनों गुर्दे फेल होने से जैश सरगना की मौत हो गई. जबकि कई मीडिया रिपोर्ट्स में ये अटकलें भी जोरों पर है कि मसूद अजहर भारत के द्वारा की गई बालाकोट में एयर स्ट्राइक से इतना बुरी तरह घायल हुआ था कि उसके आखिरकार दम तोड़ दिया. हालांकि, ये सब अटकलें ही हैं किसी तरह की पुष्टि नहीं हुई है.

खबरों को हवा इसलिए भी मिली क्योंकि कुछ दिन पहले ही उसके पनाहगार पाकिस्तान ने साफ कहा था कि मसूद अजहर ‘साहब’ बेहद बीमार हैं.

कहां है मसूद अजहर?

26 फरवरी को भारत ने अपने मिराज 2000 फाइटर प्लेन्स से पाकिस्तान के बालाकोट में मसूद अजहर के आतंकी ठिकानों को मटियामेट किया था. उस एयर स्ट्राइक के बाद से ही मसूद अजहर पर जबरदस्त सस्पेंस बरकरार है, उसके बाद से ना उसे किसी ने देखने का दावा किया और ना ही सुनने का.

हां, पाकिस्तान के मंत्री जरुर उसके बारे में आधी अधूरी जानकारियां गाहे बेगाहे देते रहे. ये भी एक बड़ी वजह है कि मसूद अजहर की मौत की खबरों पर अटकलबाजी का बाजार सजने लगा. हालांकि, जैश-ए-मोहम्मद ने अपने एक बयान में इस खबर को पूरी तरह से गलत बताया है.

मंत्री ने कहा था – साहब बीमार हैं

मसूद अजहर पाकिस्तान में है इसकी तस्दीक तो खुद वहां के विदेश मंत्री शाह कुरैशी ने ही कर दी थी. कहा था कि मसूद अजहर पाकिस्तान में ही अपने घर में है और इतना बीमार है कि घर से बाहर निकलने की हालत में भी नहीं है.

चौकन्ना है आईएसआई

सूत्रों की मानें तो पाकिस्तान खुफिया एजेंसी आईएसआई ने मसूद अजहर को रावलपिंडी के मिलिट्री अस्पताल से निकाल लिया है. मसूद को बहावलपुर के पास कोटघनी में एक खुफिया ठिकाने पर शिफ्ट कर दिया गया है. आईएसआई ने इस हरकत को 17 या 18 फरवरी को ही अंजाम दिया है. सूत्र ये भी बता रहे हैं कि भारत के हमले और दबाव के बाद मसूद की सुरक्षा सेना और आईएसआई ने और मजबूत कर दी है.

सख्त रुख अपनाए हुए है हिंदुस्तान

एक तरफ पाकिस्तान कई तरह के पैतरें चल रहा है तो वहीं भारत भी सख्त रुख अपनाए हुए है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अभी तक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से बात नहीं की है. जबकि इमरान खान तो कई बार कह चुके हैं कि उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को फोन करने की कोशिश कर चुके हैं. तो वहीं रविवार को उन्होंने सुरक्षा पर एक बड़ी बैठक बुलाई. जिसमें मौजूदा हालात का जायजा लिया गया.

Please follow and like us:
0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *